शनि शत्रु नहीं मित्र है !

सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालाक्ष: शिवप्रिय: ।
मंदचार प्रसन्नात्मा पीडां हरंतु मे शनि !!

नीलांजन समाभासं रवि पुत्रं यमाग्रजम् !
छाया मार्तण्डसंभूतं तं नमामि शनैश्चरम् !!

प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम: ।
ओम शं शनैश्चराय नम: ।

ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिया ।
कंटकी कलही चाथ तुरंगी महिषी अजा ।।
ओम शं शनैश्चराय नम: ।।

कोणस्थ पिंगलो वभ्रु कृष्णौ रौद्रान्तको यम: ।
सौरि शनैश्चरा मंद पिप्पलादेन संस्तुता ।।

ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय नम: ।।
श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम: ।।
क्रां क्रीं कौं स: भौमाय नम: ।।
ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम: ।।
ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम: ।।
द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम: ।।
प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम: ।।
भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम: ।।
स्रां स्रीं स्रौं स: केतवे नम: ।।
संतान की विवाह बाधा दूर करने के अचूक उपा
शयनकक्ष से संबंधित कुछ वास्तु टिप्स
कारोबार में सफलता प्राप्त करने का मूलमंत
विवाह संबंधी परेशानियां : क्या है समाधान
द्वादश राशियों के लिए दरिद्रता नाशक उपाय
उपाय : कार्य सफलता के लिए
दाती के नुसखे : घुटने का दर्द
दाती के नुसखे : भूख न लगना
दाती के नुसखे : मोटापा
सेहत का आशीर्वाद : पपीता
दाती के नुसखे : मुंहासे
सेहत का आशीर्वाद : आँवला
दाती के नुसखे : पैर फटना
कौन सा रत्न धारण करें
दाती के नुसखे : सर्दी-खांसी-दमा
तनावों से मुक्ति हेतु सिद्धासन
दाती के नुसखे : कब्ज
आसन : पद्मासान
कौन सा रुद्राक्ष धारण करें
श्री शनिदेव : 2014 और आर्थिक दृष्किोण
Welcome to Shanidham
The Impact of Lord Shani on Human Life by Shanicharananuagi Shree Shree 1008 Mahamadaleshwe
Paramhans Daati Ji Maharaj.
The planets control the whole Universe, but Lord Shani is the chief controller. Shani is also known as a chief controller among the jury of planets. Lord Shani decides the results of the fructification of our Karmas and all the planets give malefic or benefic results depending upon such karmas of a native. We all living beings are bounded to the chains of our Karmas and have have to undergo their good and bad results. I would like to discuss herewith, about the most important and the only justified planet ‘Shani’, about whom people have a lot of misconceptions and misunderstandings. To make you better understand the subject, I would like to explain to you the basics about the other planets
Daati Manthan
Gurumantra

छिपी गंध कलियों को मत दफनाओं कलि के अंदर ही।

कन्याओं की प्रतिभा की हत्या, अब मत करो गर्भ में ही॥

कलियों को खिलने से पहले, मत कुचलो खिल जाने दो।

अभी न जन्मी जो कन्याएं, उन्हें भी जीवन पाने दो॥

Shree Shree 1008 Mahamadaleshwer

Paramhans Daati Ji Maharaj.

Home :: Lord Shani :: Shani Sadhe Satti Dhaiya :: Shree Shanidham Trust :: Rashiphal :: Our Literature
Pragya (E-paper) :: Photo - Gallery :: Video Gallery :: Janam Patri :: Pooja Material :: Contact Us
News :: Disclaimer :: Terms & Condition
Visitors
© Copyright 2012 Shree Shanidham Trust, All rights reserved. Designed and Maintained by C. G. Technosoft Pvt. Ltd.